माँ दुर्गा लोगो
Goddess Maa Durga
http://hi.jaidevimaa.com/=>maa-durga=>about-maa-durga.php =>
माँ दुर्गा मुख्य देवीमाँ वैष्णो देवी पूजन विधि साईटमेप


माँ दुर्गा की महिमा और उनका रूप

देवी दुर्गा हिंदू पौराणिक कथाओं में एक सबसे शक्तिशाली देवी है। हिंदू पौराणिक कथाओं में परोपकार और कृपाभाव को पूरा करने के लिए उन्हें विभिन्न रूपों में पूजा जाता है। वह उमा है "चमक " ,गौरी "सफेद या प्रतिभाशाली "; पार्वती, " पर्वतारोही "; या जगतमाता , " माँ -की दुनिया" उनका दानवो के लिए भयानक रूप है दुर्गा " दुर्गम " ; काली, "ब्लैक" ; चंडी , " भयंकर "; और भैरवी ,"भयानक "।

 माँ दुर्गा

कैसी दिखती है माँ दुर्गा ?

दुर्गा, एक बाघ या शेर पर सवार एक भव्य नारी योद्धा है। महिषासुर मर्दिनी बाघ पर सवार एक निडर रूप में जिसे अभय मुद्रा के नाम से जाना जाता है ,| भय से मुक्ति का आश्वासन देते हुए। जगतमाता अपने सभी भक्तो से कहती है " मुझ पर सभी कार्यों को समर्प्रित कर दो मैं तुम्हे सभी मुसीबतों से बचा लुंगी। दुर्गा माँ आठ या दस हाथ होने के रूप में वर्णित की गयी है । यह 8 हाथ चतुर्भागों या हिंदू धर्म में दस दिशाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं । वह सभी दिशाओं से अपने भक्तों की रक्षा करती है।
पढ़े : दुर्गा सप्तशती के सिद्ध चमत्कारी मंत्र
पढ़े : दुर्गा सप्तशती के सभी पाठ

माँ के हाथों में- हथियार और अन्य
• दुर्गा माँ के हाथ में शंख "प्रणवा " या " ॐ " का प्रतिक है,जिसकी ध्वनि भगवान की उपस्थिति का प्रतिक है ।
• धनुष और तीर ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करते हैं । धनुष और तीर दोनों एक हाथ में पकड़ कर " माँ दुर्गा " यह दर्शा रही है ऊर्जा के दोनों रूपों पर नियंत्रण कैसे किया जाता है । -(क्षमता और गतिज)
• वज्र दृढ़ता का प्रतीक है। दुर्गा के भक्त वज्र की तरह शांत होने चाहिए किसी की प्रतिबद्धता में। व्रज की तरह वह सभी को तोड़ सकता है जिससे भी वह टकराता है।
• एक भक्त को अपने विश्वास को खोये बिना हर चुनौती का सामना करना चाहिए।
• दुर्गा माँ के हाथ में कमल पूरी तरह से खिला हुआ नहीं है ,यह सफलता नहीं बल्कि अन्तिम की निश्चितता का प्रतीक है। संस्कृत में कलम को "पंकजा" कहा `जाता है जिसका मतलब है कीचड़ में जन्मा हुआ। इस प्रकार, कमल वासना और लालच की सांसारिक कीचड़ के बीच श्रद्धालुओं का आध्यात्मिक गुणवत्ता के सतत विकास के लिए खड़ा है ।
• " सुदर्शन -चक्र " : एक सुंदर डिस्कस ,जो देवी की तर्जनी के चारों ओर घूमती है ,जब उसे नहीं छू ते है ,पूरी दुनिया दुर्गा की इच्छा के अधीन का प्रतीक है और उनके आदेश का भी। वह बुराई को नष्ट करने और धर्म के विकास के लिए अनुकूल वातावरण का निर्माण करने के लिए इस अमोघ हथियार का उपयोग करती है।
• तलवार : तलवार जो माँ दुर्गा एक हाथ में पकड़ती है वह ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है ,जो तेज़ होता है। सभी संदेहों से मुक्त है जो ज्ञान , तलवार की चमक का प्रतीक है।
• त्रिशूल : दुर्गा त्रिशूल या " त्रिशूल " तीन गुणों का प्रतीक है- सातवा ( निष्क्रियता ), राजस ( गतिविधि) और तामस (गैर गतिविधि)- और वह तीन प्रकार के दुःख मिटाती है शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक।

कैसे है शेरोवाली माँ दुर्गा इतनी शक्तिशाली ??

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी दुर्गा , परमेश्वर ब्रह्मा (निर्माता) , विष्णु ( रक्षक ), और शिव ( विनाशक ) के संयुक्त ऊर्जा से उभरी है, राक्षस महिषासुर से युद्ध करने के लिए , कथा के अनुसार राक्षस महिषासुर को वरदान दिया गया था की वह और इंसान और भगवान द्वारा नहीं मारा जा सकता। यहां तक कि ब्रह्मा (निर्माता) , विष्णु ( रक्षक ), और शिव ( विनाशक ) ने भी उसे रोकने में नाकाम रहे ,इसलिए एक स्त्री ऊर्जा की उपस्थिति नरसंहार करने के लिए की गयी ,जिसने तीनो लोको में तहलका मचा दिया था-अर्थ , स्वर्ग और नीचे की दुनिया । देवी दुर्गा को सभी देवताओं द्वारा विभिन्न हथियार उपहार में दिए गए थे। जिसमें से भाला और त्रिशूल सबसे आम तौर पर उसके चित्रों में दर्शाया गया है ।वह सुदर्शन चक्र, तलवार , धनुष और तीर और अन्य हथियार पकड़े देखी गयी है ।

नवरात्रि त्यौहार

माँ दुर्गा की विशेष पूजा के लिए नौ दिन के नवरात्रि का त्यौहार पुरे भारत में धूम धाम से मनाया जाता है | साल में नवरात्रि ४ बार आते है | जाने कब कब आते है दुर्गा के नवरात्रि | पहले दिन नवरात्रि घट स्थापना के साथ माँ अम्बिका को घर में बैठाया जाता है | रात्रि में माँ का जगराता या जागरण में भजन गाये जाते है |