माँ दुर्गा लोगो
Goddess Maa Durga
http://hi.jaidevimaa.com/=>maa-durga=>durga-saptshati.php =>
माँ दुर्गा मुख्य देवीमाँ वैष्णो देवी पूजन विधि साईटमेप


दुर्गा सप्तशती पाठ और माँ दुर्गा की महिमा

durga saptshati book  जब जब इस धरती पर पाप असहनीय हो जाता है तब तब देवी देवता के अवतरण के रूप में कोई महा शक्ति इस धरती पर अवतार लेकर उस पाप का नाश करती है | महाशक्तिशाली और इच्चापुरक काव्य दुर्गा सप्तसती से जानते है की किस तरह माँ दुर्गा का जन्म हुआ और किस तरह उन्होंने बार बार पृथ्वी पर दैत्यों के पाप को ख़त्म किया | दुर्गा सप्तशती पाठ में माँ जगदम्बे की महिमा का अनुपम तरीके से वर्णित किया गया है |

दुर्गा सप्तशती पाठ का महत्व

माँ भगवती की महिमा का गान करने वाले यह धर्म सरिता अपने अन्दर सभी सुखो को पाने के महा गुप्त साधना समेटे हुए है | तांत्रिक साधना , गुप्त साधना मन्त्र साधना और अन्य प्रकार के आराधना के पथ कको सुचारू रूप से बताती है | इस काव्य का पाठ विशेष रूप से नवरात्रों में किया जाता है और अचूक फल देने वाला होता है | दूर्गा सप्तशती पाठ में १३ अध्याय है | पाठ करने वाला , पाठ सुनने वाला सभी देवी कृपा के पात्र बनते है | नवरात्रि में नव दुर्गा की पूजा के लिए यह सर्वोपरि किताब है | इसमे माँ दुर्गा के द्वारा लिए गये अवतारों की भी जानकारी प्राप्त होती है |

दूर्गा सप्तशती अध्याय 1 मधु कैटभ वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 2 देवताओ के तेज से माँ दुर्गा का अवतरण और
महिषासुर सेना का वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 3 महिषासुर और उसके सेनापति का वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 4 इन्द्राणी देवताओ के द्वारा माँ की स्तुति
दूर्गा सप्तशती अध्याय 5 देवताओ के द्वारा माँ की स्तुति और
चन्द मुंड द्वारा शुम्भ के सामने देवी की सुन्दरता का वर्तांत
दूर्गा सप्तशती अध्याय 6 धूम्रलोचन वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 7 चण्ड मुण्ड वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 8 रक्तबीज वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 9 -10 निशुम्भ शुम्भ वध
दूर्गा सप्तशती अध्याय 11 देवताओ द्वारा देवी की स्तुति और देवी के द्वारा देवताओ को वरदान
दूर्गा सप्तशती अध्याय 12 देवी चरित्र के पाठ की महिमा और फल
दूर्गा सप्तशती अध्याय 13 सुरथ और वैश्यको देवी का वरदान


निचे दिए गये लिंकों में आप जानेंगे नवरात्रि से जुडी विशेष बाते :

सभी देवताओ की पूजा माँ दुर्गा की पूजा से

क्या होते है नवरात्रे

कैसे होती है नवरात्रों में कलश स्थापना

माँ का जगराता या जागरण

क्या करे क्या ना करे नवरात्रों में

माँ दुर्गा के 9 रूप और उनकी महिमा