माँ दुर्गा लोगो
Goddess Maa Durga
http://hi.jaidevimaa.com/=>maa-durga=>saptshati-2-3-mahishasur.php =>
माँ दुर्गा मुख्य देवीमाँ वैष्णो देवी पूजन विधि साईटमेप


दुर्गा माँ द्वारा महिषासुर वध

Mahisasur vadh by devi durga      रम्भासुर नामक दैत्य का महिषासुर नामक पुत्र था, जिसने घोर तपस्या से ब्रह्मा जी को प्रसन्न किया, और उनसे वरदान पाया की वो सिर्फ सिर्फ एक स्त्री के ही हाथों से मारा जा सके । ना ही कोई देवता ना ही सुर ना ही असुर न ही मानव उसे मार सके | वरदान प्राप्त करके उसने स्वर्ग के साथ साथ तीनो लोको को जीत लिया । देवता ब्रह्मा जी और विष्णु जी सहित शिव जी के पास आये और अपनी दुःख भरी वेदना सुनाई | यह सुनकर त्रिदेव क्रोध में भर गये | ।

शिव के क्रोधित मुखमंडल से एक तेज निकला, और तब ब्रह्मा जी और विष्णु जी सहित सब देवताओं से तेज उत्पन्न हुआ, जिसने स्त्री वेश धारण किया , जो दुर्गा देवी थीं । देवताओं ने अति हर्षित हो कर उन महाकाली को आयुध एवं आभूषण आदि प्रदान किये । शिव जी ने उन्हें अपना त्रिशूल दिया, विष्णु जी ने चक्र तो इंद्र ने वज्र । इस तरह समस्त देवताओ ने अपना शस्त्र और तेज से दुर्गा माँ को अनुपम और महा शक्तिया प्रदान की |

आयुध व् आभूषणों से सुसज्जित चंडिका ने जोरदार अट्टहास किया जिसकी गर्जना सुन महिषासुर अपनी सेना ले युद्ध करने पहुंचा । राक्षसों ने अपने शक्तिशाली अस्त्र शस्त्र चलाने आरम्भ किये जो माँ के सामने तुच्छ तिनके के समान साबित हुए | माँ जगदम्बे जी सवारी सिंह गरज गरज कर सब और असुरों को मारने लगा और युद्ध का मैदान लहू लुहान हो गया । देवी और उनके सिंह से देखते ही देखते दैत्यों का संहार कर दिया | महिषासुर के दैत्य सेनापति भी मारे जा चुके थे ।

इस बीच महिषासुर ने अनेको मायावी रूप बनाकर माँ के साथ युद्ध किया पर हर बार उसके हाथ हार ही लगी | कभी वो भैस कभी हाथी तो कभी सिंह बनके देवी से लड़ने लगा | इस बार फिर अपने मुख्य रूप भैस के रूप में असुर में तब्दील हुआ पर इस बार देवी ने उसके गर्दन पर त्रिशूल से वार करके उसका अंत कर दिया | इस तरह माँ भगवती महिषासुर मर्दिनी कहलाई |

बची हुई असुर सेना भाग गयी या मारी गयी और देवताओं गन्धर्वों ने देवी की विनयपूर्वक महादुर्गा जी की स्तुति की और कई वरदान प्राप्त किये ।

जय हो महिषासुर मर्दिनी की

जय हो शेरो वाली की


दुर्गा सप्तशती के अन्य अध्याय :

मधु कैटभ वध     धूम्रलोचन वध

चण्ड मुण्ड वध    रक्तबीज वध

निशुम्भ शुम्भ वध

निचे दिए गये लिंकों में आप जानेंगे नवरात्रि से जुडी विशेष बाते :

सभी देवताओ की पूजा माँ दुर्गा की पूजा से

क्या होते है नवरात्रे

दुर्गा सप्तशती से चमत्कारी मंत्र

कैसे होती है नवरात्रों में कलश स्थापना

माँ का जगराता या जागरण

क्या करे क्या ना करे नवरात्रों में

माँ दुर्गा के 9 रूप और उनकी महिमा