माँ दुर्गा लोगो
Goddess Maa Durga
http://hi.jaidevimaa.com/=>temples=>kali-temple-kalighat.php =>
माँ दुर्गा मुख्य देवीमाँ वैष्णो देवी पूजन विधि साईटमेप


कालीघाट मंदिर कोलकाता

यह कालिका का मंदिर काली घाट के नाम से भी पहचाना जाता है और पुरे भारत में आस्था का अनुठा केंद्र है | माना जाता है की इस जगह सती माँ के दांये पाँव के चार अंगुलियां यही गिरी थी इसी कारण इसे शक्ति के 51 शक्तिपीठो में माना जाता है | यहा माँ काली की प्रचंद मूरत के दर्शन होते है जो विशालकाय है |काली माँ की लम्बी जीभ जो सोने की बनी हुई है बाहर निकली हुई है और हाथ और दांत भी सोने से ही बने हुए है |
माँ की मूरत का चेहरा श्याम रंग में है और आँखे और सिर सिन्दुरिया रंग में है | सिन्दुरिया रंग में ही माँ काली के तिलक लगा हुआ है और हाथ में एक फांसा भी इसी रंग में रंगा हुआ है | देवी को स्नान कराते समय धार्मिक मान्यताओं के कारण प्रधान पुरोहित की आंखों पर पट्टी बांध दी जाती है |
माँ कालिका के अलावा शीतला, षष्ठी और मंगलाचंडी के भी स्थान है।
माना जाता है की यह मंदिर 1809 के करिब बनाया गया था | इस शक्तिपीठ में स्थित प्रतिमा की प्रतिष्ठा कामदेव ब्रह्मचारी (सन्यासपूर्व नाम जिया गंगोपाध्याय) ने की थी। साथ ही यह कोलकाता मेट्रो का एक हिस्सा भी है |

अघोर और तान्त्रिक साधना का केंद्र :

माँ काली अघोरिया क्रियाओ और तंत्र मंत्र की सर्वोपरी देवी के रूप में जनि जाती है और साथ ही यह मंदिर इस देवी का शक्तिपीठ है | इन्ही कारणों से यह अघोर और तान्त्रिक साधना का बहूत बड़ा केंद्र बना हुआ है |

Back to all Famous Temples of Devi Maa

 kali mandir kolkata live darshan


मंदिर की समय तालिका :

मंगलवार और शानिवार के साथ अस्तमी को विशेष पूजा की जाती है और भक्तो की भीड भी बहूत ज्यादा होती है |
यह मंदिर सुबह 5 बजे से रात्रि 10:30 तक खुला रहता है | बीच में दोपहर में यह मंदिर 2 से 5 बजे तक बंद कर दिया जाता है | इस अवधि में भोग लगाया जाता है | सुबह 4 बजे मंगला आरती होती है पर भक्तो के लिए मंदिर 5 बजे ही खोला जाता है |
नित्य पूजा : 5:30 am से 7:00 am
भोग राग : 2:30 pm से 3:30 pm
संध्या आरती : 6:30 pm से 7:00 pm


काली मंदिर कोलकाता मंदिर के दर्शन फोटो

देखे माता रानी के दुसरे मुख्य मंदिर


स्वर्ण महालक्ष्मी मंदिर श्रीपुरम महालक्ष्मी कोलापुर

वज्रेश्वरी देवी अम्बाजी मंदिर

मन्सा देवी मंदिर कालका माता

तनोट माता हरसिद्धि माता मंदिर उज्जैन

माँ चिंतपुरणी मंदिर ज्वाला देवी मंदिर

नैना देवी मंदिर कामाख्या देवी