माँ दुर्गा लोगो
Goddess Maa Durga
http://hi.jaidevimaa.com/=>temples=>tanot-mata-temple.php =>
माँ दुर्गा मुख्य देवीमाँ वैष्णो देवी पूजन विधि साईटमेप


तनोट माता मंदिर राजस्थान

  tanol mata idol  dashan rajasthan
तनोट माँ(तन्नोट माँ) का मन्दिर जैसलमेर जिले से लगभग एक 130 कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित हैं । यह जगह भारत पाकिस्थान सीमा के करीब ही है | मातेश्वरी तनोट माँ को पाकिस्थान बलूचिस्तान में पड़ने वाले हिंगलाज माँ के मंदिर का ही एक रूप कहा हैं ।भाटी राजपूत नरेश तणुराव ने वि.सं. 828 में तनोट का मंदिर बनवाकर मूर्ति को स्थापित कि थी । इसी बीच भाटी तथा जैसलमेर के पड़ौसी इलाकों के लोग आज भी पूजते आ रहे है ।

1965 भारत-पाक लड़ाई और माता का चमत्कार

माना गया है कि भारत और पाकिस्तान के मध्य सितम्बर 1965 को लड़ाई हुई थी , उसमें पाकिस्तान के सैनिकों ने मंदिर व मंदिर के आस पास पर कई बम गिराए थे लेकिन माँ की कृपा मंदिर परिसर में खरोच तक नही आ सकी । तभी से सीमा सुरक्षा बल के जवान इस मंदिर के प्रति काफी श्रद्धा भाव रखते है । आज भी मंदिर परिसर के म्युजीयम में वो बम रखे हुए है | इसी मंदिर को फिल्म बॉर्डर में दिखाया गया | हम्हारे जवानो के लिए माँ तनोत में बड़ी आस्था है |

माता मंदिर का इतिहास :-

बहुत पहले मामडि़या नाम के एक चारण थे। उनकी कोई संतान नहीं थी। संतान प्राप्त करने की लालसा में उन्होंने हिंगलाज शक्तिपीठ की सात बार पैदल यात्रा की। एक बार माता ने स्वप्न में आकर उनकी इच्छा पूछी तो चारण ने कहा कि आप मेरे यहाँ जन्म लें। माता कि कृपा से चारण के यहाँ 7 पुत्रियों और एक पुत्र ने जन्म लिया। उन्हीं सात पुत्रियों में से एक आवड़ ने विक्रम संवत 808 में चारण के यहाँ जन्म लिया और अपने चमत्कार दिखाना शुरू किया। सातों पुत्रियाँ देवीय चमत्कारों से युक्त थी। उन्होंने हूणों के आक्रमण से माड़ प्रदेश की रक्षा की।

तनोट माता मंदिर के दर्शन फोटो

देखे माता रानी के दुसरे मुख्य मंदिर


स्वर्ण महालक्ष्मी मंदिर श्रीपुरम महालक्ष्मी कोलापुर

वज्रेश्वरी देवी अम्बाजी मंदिर

मन्सा देवी मंदिर कालका माता

तनोट माता हरसिद्धि माता मंदिर उज्जैन

माँ चिंतपुरणी मंदिर ज्वाला देवी मंदिर

नैना देवी मंदिर कामाख्या देवी